ias-toppers-rural-india
Today's Important

आज के महत्वपूर्ण आलेख 20th May 2017 by IASToppers

पिछड़ता ही जा रहा है गांवों में बसने वाला भारत; आर्थिक अपराधों के भगोड़ों की संपत्ति जब्त करने के लिए कानून; भारत की घेरेबंदी में जुटा चीन; विदेशी निवेश संवद्र्धन बोर्ड (एफआईपीबी); जीएसटी; etc.
By IT's Selection Team
May 20, 2017

Contents

  • भारत की घेरेबंदी में जुटा चीन
  • आईएनएक्स: दो पूर्व नियामक प्रमुखों की भूमिका पर सवाल
  • गंगा को लोगों का साथ चाहिए
  • जीएसटी की तस्वीर
  • नकेल की तजवीज
  • पिछड़ता ही जा रहा है गांवों में बसने वाला भारत

IASToppers के ‘आज के महत्वपूर्ण आलेख’ का संग्रह पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

Note: आलेख को पढ़ने के लिए निम्नलिखित शीर्षकों पर क्लिक करे।

ias toppers Dainik Jagran

भारत की घेरेबंदी में जुटा चीन

सन्दर्भ:

2020 तक चीन दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी नौसेना बनने के अपने लक्ष्य को हासिल कर लेगा।

ias toppers Business Standard

आईएनएक्स: दो पूर्व नियामक प्रमुखों की भूमिका पर सवाल

सन्दर्भ:

विदेशी निवेश संवद्र्धन बोर्ड (एफआईपीबी) विवादास्पद लग रहे अपने एक फैसले को लेकर इन दिनों सुर्खियों में है।

Navbharat

गंगा को लोगों का साथ चाहिए

सन्दर्भ:

1916 में मालवीय जी द्वारा छेड़े गए आंदोलन को दोहराना होगा

ias toppers Jansatta

जीएसटी की तस्वीर

सन्दर्भ:

बहुप्रचारित-बहुप्रतीक्षित जीएसटी यानी वस्तु एवं सेवा कर कानून पहली जुलाई से लागू हो जाएगा। इसका सीधा मतलब होगा कि अब तक लगने वाले दूसरे किस्म के कर, मसलन सीमा शुल्क व उत्पाद शुल्क, सेवा-कर, प्रवेश-कर, मनोरंजन-कर और वैट वगैरह सब इसी में समाहित हो जाएंगे।

 

नकेल की तजवीज

सन्दर्भ:

आर्थिक अपराधों के भगोड़ों की संपत्ति जब्त करने के लिए ज्यादा सख्त कानून बनाने का केंद्र सरकार का प्रस्ताव स्वागत-योग्य है।

ias toppers live hindustan

पिछड़ता ही जा रहा है गांवों में बसने वाला भारत

सन्दर्भ:

आर्थिक विकास व उपभोग के उपलब्ध आंकड़े दर्शाते  हैं कि देश में ग्रामीण लोगों की माली हालत और बुनियादी वस्तुओं के उपभोग की स्थिति शहरी लोगों के मुकाबले बेहद पिछड़ी अवस्था में है।

 

Topics
TODAY’S IMPORTANT
Tags

Facebook

My Favourite Articles

  • Your favorites will be here.

Calendar Archive

November 2018
M T W T F S S
« Oct    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930