ias-toppers-Panjab-University
Today's Important

आज के महत्वपूर्ण आलेख 22nd April 2017 by IASToppers

उच्च शिक्षा में संकट के बीज; सिविल सेवा दिवस पर नौकरशाहों को नसीहत; बांग्लादेश-पाकिस्तान: एक तुलना; तीन तलाक; सुशासन और डिजिटल क्रांति का आधार; नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी का इंटरव्यू; अवसाद की कड़ियां और शिक्षा; निजी स्कूलों की मनमानी पर लगाम; पनामागेट
By IT's Selection Team
April 22, 2017

Contents

  • तीन तलाक पर बेजा जिद
  • सुशासन और डिजिटल क्रांति का आधार
  • उच्च शिक्षा में संकट के बीज
  • नौकरशाहों को नसीहत
  • पाकिस्तानी अदालत ने नवाज मामले में दिखाई चतुराई
  • दो देशों की कथा
  • भारत से अच्छा पड़ोसी कोई नहीं
  • अवसाद की कड़ियां और शिक्षा
  • मनमानी पर लगाम
  • पनामागेट मामले में हमारी चाल इतनी सुस्त क्यों

 

Note: आलेख को पढ़ने के लिए निम्नलिखित शीर्षकों पर क्लिक करे।

 

ias toppers Dainik Jagran

तीन तलाक पर बेजा जिद

सन्दर्भ:

कुरान में एक साथ तीन ‘तलाक’ का ठोस आधार नहीं है, फिर भी मजहबी रहनुमा इसे जारी रखने पर अड़े हैं


सुशासन और डिजिटल क्रांति का आधार

सन्दर्भ:

आधार दुनिया में सबसे बड़ा अनूठा डिजिटल पहचान प्रोग्राम है। इसने भारत को विश्व में इतने कम समय में ही एक ऐसा डाटा संपन्न देश बना दिया है जिसका हर निवासी डिजिटल पहचान से सशक्त है।


ias toppers Dainik Tribune

उच्च शिक्षा में संकट के बीज

सन्दर्भ:

पंजाब यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा पिछले दिनों अचानक फीस में अभूतपूर्व बढ़ोतरी का जो निर्णय लिया गया, उसने छात्र अशांति को जन्म दिया है।


नौकरशाहों को नसीहत

सन्दर्भ:

सिविल सेवा दिवस पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने नौकरशाहों को ‘यस मैन’ न बनने की नेक सलाह दी है।


ias toppers Business Standard

पाकिस्तानी अदालत ने नवाज मामले में दिखाई चतुराई

सन्दर्भ:

इस घटनाक्रम का पाकिस्तान और भारत पर क्या असर पड़ेगा?


दो देशों की कथा

सन्दर्भ:

वर्षों के सौतेले व्यवहार के बाद सन 1971 में बांग्लादेश पाकिस्तान से आजादी पाने में कामयाब रहा। इस दौरान जो खूनी जंग हुई उसके तमाम असर आने वाले कई वर्षों तक महसूस किए गए।


Navbharat

भारत से अच्छा पड़ोसी कोई नहीं

सन्दर्भ:

नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी का इंटरव्यू


ias toppers Jansatta

अवसाद की कड़ियां और शिक्षा

सन्दर्भ:

हमने अपनी निजता और संवेदनाओं को बाजार के हवाले कर दिया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्ष 2017 को अवसाद व उदासी से निजात का वर्ष घोषित किया है। आज की तारीख में किसी व्यक्ति व समाज को सबसे ज्यादा जिस चीज की आवश्यकता है वह है सुख-शांति और अपनों का साथ। बड़ी साफगोई से बाजार इन्हीं चीजों में सेंध लगाता है बल्कि लगा चुका है।


मनमानी पर लगाम

सन्दर्भ:

सरकारी स्कूलों में पढ़ाई-लिखाई की बदहाली के दौर में निजी स्कूलों ने अपने पांव पसारे थे, अब वह एक कारोबार में तब्दील हो चुका है।


ias toppers live hindustan

पनामागेट मामले में हमारी चाल इतनी सुस्त क्यों

सन्दर्भ:

भारत में पनामागेट को लेकर कोई तूफान क्यों नहीं आया या आ रहा है? इस संबंध में हमारे पास तीन ही खबरें हैं।

 

Topics
TODAY’S IMPORTANT
Tags

Facebook

My Favourite Articles

  • Your favorites will be here.

Calendar Archive

February 2019
M T W T F S S
« Nov    
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728