ias-toppers-water-footprint
Image Credit: IStock Images
Today's Important

आज के महत्वपूर्ण आलेख 24th May 2017 by IASToppers

वाटर फुटप्रिंट से आंकिए पानी की खपत; शिक्षा में सुधार का एजेंडा; क्रेनियोवर्टेबल जंक्शन (सीवीजे) की समस्या; दक्षता विकास से ही निकल सकेगी आईटी क्षेत्र की राह; गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) पर अध्यादेश; भारतीय बैंकिंग में एसबीआई विलय; साइबर फिरौती बिटकॉइन में ही क्यों; अखबारों की प्रसार संख्या
By IT's Selection Team
May 24, 2017

Contents

  • शिक्षा में सुधार का एजेंडा
  • जन्मजात दिमागी बीमारी में सर्जरी
  • वाटर फुटप्रिंट से आंकिए पानी की खपत
  • दक्षता विकास से ही निकल सकेगी आईटी क्षेत्र की राह
  • फंसे कर्ज पर अध्यादेश से जुड़े पांच सवाल
  • विलय नहीं हल
  • साइबर फिरौती बिटकॉइन में ही क्यों
  • प्रसार बनाम साख

IASToppers के ‘आज के महत्वपूर्ण आलेख’ का संग्रह पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

Note: आलेख को पढ़ने के लिए निम्नलिखित शीर्षकों पर क्लिक करे।

ias toppers Dainik Jagran

शिक्षा में सुधार का एजेंडा

सन्दर्भ:

शिक्षा व्यवस्था में निजीकरण से निजी स्कूल, महाविद्यालय खुले लेकिन शिक्षा में सरकारी भागीदारी की साख नीचे आई।

ias-toppers-dainik-bhaskar2

जन्मजात दिमागी बीमारी में सर्जरी

सन्दर्भ:

हमारे देश में क्रेनियोवर्टेबल जंक्शन (सीवीजे) की समस्या बहुत आम है। मस्तिष्क और मेरुदण्ड जहां मिलते हैं, उसमें यदि कोई रोग है तो इसका उपचार सर्जरी में है। इस तरह के जन्मजात दोष के मामले भी सर्जरी से सुधारे गए हैं।

ias toppers Dainik Tribune

वाटर फुटप्रिंट से आंकिए पानी की खपत

सन्दर्भ:

दुनिया भर में कार्बन की खपत की मात्रा क्या है, इसकी जानकारी के लिए दुनिया भर में कार्बन फुटप्रिंट का इस्तेमाल किया जाता है। इसी तरह, मानवीय हस्तक्षेप के कारण पानी की खपत कहां और कितनी हो रही है, इसे जानने के लिए आजकल एक नई अवधारणा प्रचलन में है, जिसका नाम है वाटर फुटप्रिंट।

ias toppers Business Standard

दक्षता विकास से ही निकल सकेगी आईटी क्षेत्र की राह

सन्दर्भ:

भारतीय सॉफ्टवेयर एवं सेवा उद्योग को दुनिया भर में अपने क्षेत्र का अगुआ माना जाता था लेकिन इन दिनों ऐसी मीडिया रिपोर्ट आ रही हैं जिनमें इस उद्योग में लगे हजारों लोगों की नौकरी पर खतरा मंडराने की खबरें दिखाई दे रही हैं। ऐसे समय में हमें निर्णायक भूमिका निभा रहे मुद्दों को समझने की जरूरत है।

 

फंसे कर्ज पर अध्यादेश से जुड़े पांच सवाल

सन्दर्भ:

गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) पर अध्यादेश एक अनिच्छुक नियामक पर बाहरी आदेश के जरिये सार्वजनिक बैंकों के कारोबार को साधने की कोशिश है।

 

विलय नहीं हल

सन्दर्भ:

एसबीआई से जुड़ा प्रकरण बताता है कि विलय भारतीय बैंकिंग के लिए कोई रामबाण नहीं है।

Navbharat

साइबर फिरौती बिटकॉइन में ही क्यों

सन्दर्भ:

बिटकॉइन दुनिया भर में मनी लॉन्ड्रिंग का सबसे सुरक्षित तरीका है। आप भारत में बैठे-बैठे अपने खाते के रुपये बिटकॉइन वॉलेट में डाल सकते हैं और किसी भी टैक्स हैवन देश में जाकर उन्हें डॉलर में बदल सकते हैं।

iastoppers Jansatta

प्रसार बनाम साख

सन्दर्भ:

अखबारों की प्रसार संख्या बढ़ने में बाजार संबंधी उनकी रणनीति का योगदान ज्यादा है। इस रणनीति का कोई सीधा संबंध देश की समस्याओं, सरोकारों तथा गांव-देहात से नहीं है। समस्याओं और सरोकारों के लिए अखबारों में जगह सिकुड़ती गई है। निष्पक्षता और तटस्थता में भी कमी आई है। लिहाजा, आज प्रिंट मीडिया के सामने सबसे बड़ी चुनौती अपनी पुरानी साख वापस पाने की है।

 

Topics
TODAY’S IMPORTANT
Tags

Facebook

My Favourite Articles

  • Your favorites will be here.

Calendar Archive

November 2018
M T W T F S S
« Oct    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930