fbpx
iastoppers_hindi_editorial
Today's Important

आज के महत्वपूर्ण आलेख 8th April 2017

जनसत्ता, नवभारत टाइम्स, दैनिक जागरण, बिज़नेस स्टैण्डर्ड, दैनिक ट्रिब्यून- जैसे प्रमुख अखबारों से पसंद किए हुए संपादकीय आलेखों का दैनिक संकलन।
By IT's Selection Team
April 08, 2017

Contents

  • चीन की अनावश्यक उग्रता
  • हिन्दी की बढ़ती स्वीकार्यता
  • देश में गौरक्षा के नाम पर मानव हत्या क्यों?
  • अर्द्धसत्यों से मुक्त समरसता की राह
  • व्यापार की गुत्थी
  • गुजारे के लिए पलायन की पीड़ा
  • कर्जमाफी बनाम वित्त

 

ias toppers Dainik Jagran

चीन की अनावश्यक उग्रता

सन्दर्भ:

दलाई लामा के अरुणाचल दौरे पर आंखें तरेरने वाले चीन को समझना चाहिए कि यह दौरा उसे चिढ़ाने के लिए नहीं है


हिन्दी की बढ़ती स्वीकार्यता

सन्दर्भ:

पूरे देश में हिंदी एक संपर्क भाषा के तौर पर धीरे-धीरे अंग्रेजी को विस्थापित करने लगी है।


ias toppers dainik bhaskar

देश में गौरक्षा के नाम पर मानव हत्या क्यों?

सन्दर्भ:

यही सक्रियता रिश्वतखोरी, भ्रष्टाचार और शराबखोरी जैसी बुराइयों के खिलाफ क्यों नहीं दिखती?


ias toppers Dainik Tribune

अर्द्धसत्यों से मुक्त समरसता की राह

सन्दर्भ:

वक्त का तकाजा है कि भारतीय समाज में गाय के प्रति आस्था के साथ ही उसके पूरे अर्थशास्त्र और सामाजिक-ऐतिहासिक यथार्थ को सम्यक रूप में समझा जाए। साथ ही उन मिथकों के मर्म को भी भेदा जाए जो विभिन्न समुदायों में कटुता फैलाते हैं।


ias toppers Business Standard

व्यापार की गुत्थी

सन्दर्भ:

कुछ लोग कहेंगे कि चीन से परे देखने की जरूरत नहीं है क्योंकि वह अकेले ही आधे से अधिक व्यापार घाटे के लिए उत्तरदायी है। भारत और चीन का व्यापार सर्वाधिक असंतुलित व्यापार में से एक है।


ias toppers Jansatta

गुजारे के लिए पलायन की पीड़ा

सन्दर्भ:

हमारे नीति नियंता पलायन को आर्थिक विकास के लिए जरूरी मानते हैं। लेकिन पलायन करने वाले श्रमिकों के अधिकारों की रक्षा करने में उनकी कोई दिलचस्पी नहीं है। इससे गांव का आर्थिक और सामाजिक ताना-बाना तेजी से टूट रहा है। खेती और किसानी आज अंतिम सांसें गिन रहे हैं। विकास के कथित एजेंडे में गांवों के लिए कोई ठोस योजना नहीं है।


कर्जमाफी बनाम वित्त

सन्दर्भ:

कर्जमाफी को लेकर रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल का बयान, सरकार को भले रास न आया हो, पर वह हैरानी का विषय नहीं है, क्योंकि वित्त व्यवस्था से जुड़े कि सी भी शख्स की वैसी ही प्रतिक्रि या होगी।